VISHNU STUTI | SHUKLAMBARADHARAM VISHNUM | MOST POWERFUL MANTRA OF LORD VISHNU STOTRAM

विष्णु स्तुति | शुक्लंबरधरम विष्णुम | भगवान विष्णु स्तोत्रम का सबसे शक्तिशाली मंत्र

भक्ति वाइब्स
सुंदर गीत भगवान विष्णु स्तुति मंत्र - शुक्लंबरधरम विष्णुम - सबसे शक्तिशाली विष्णु मंत्र

शुक्लंबरदारम विष्णुम्
शशिवर्णम चतुर्भुजम्
प्रसन्ना वदानम ध्यानेठ
सर्व विग्नो पशनताये

शांताकाराम भुजगशयनम्:
पद्मनाभम सुरेशम
विश्व धर्म गगन सद्रुषम्
मेघा वर्णम शुभांगम
लक्ष्मी कांतम कमलानायनम्
योगिबीर ध्यान गम्यम
वंदे विष्णुम भव भय हराम
सर्व लोकिका नाथम।

औषदं चिंतयेद विष्णुम
भोजनम चा जनार्दनम्
शयन पद्मनाभम चा
विवाहे चा प्रजापतिम
युद्ध चक्रधरम देवम्
प्रवास चा त्रिविक्रमम्
नारायणम थानु त्यागे
श्रीधरम प्रिया संगमे
दुस्वप्ने स्मारा गोविंदम
संकट मधुसूदनम्

कानाने नरसिम्हम चा
पावके जलासायिनम
जलामाध्ये वरहम चा
पार्वते रघुनंदनम
गमाने वामनं शैव
सर्व कार्येशु माधवमी

षोडसैतानी नामानी
प्रथुरुद्धय यह पदेठ:
सर्व पाप विनिर्मुक्तो
विष्णु लोकाई महियाती

गायिका- मीनाक्षी मजूमदार।
संगीतकार संगीत - गौरव शोम।

,

हमें फेसबुक पर पसंद करें
,

ट्विटर पर हमें अनुगमन करें
,

हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करें
,

हमें यहां खोजें। Pinterest
,

अधिक शांतिपूर्ण और धार्मिक संगीत वीडियो के लिए नीचे क्लिक करें:-

भजन विवरण

भजन का नाम : विष्णु स्तुति | शुक्लंबरधरम विष्णुम | भगवान विष्णु स्तोत्रम का सबसे शक्तिशाली मंत्र

गायक का नाम : स्पिरिचुअल-मंत्र

प्रकाशित तिथि : Feb. 16, 2022, 6:21 a.m.


मुख्य श्रेणियां

सम्बंधित श्रेणी

शिव स्तुति || शिव स्तुति - हर संकट से मुक्ति और मन्नछित फल पाने के लिए सुने

शिव स्तुति || Shiv Stuti - हर संकट से मुक्ति और मनवांछित फल पाने के लिए जरूर सुने

शनि के वैदिक मंत्र |शनिवार के ये ऊर्जावान मंत्र सुन ले | सप्तमी विशेष शनिवार भक्ति

Shani ke Vaidik Mantra |शनिवार के ये शक्तिशाली मंत्र जरूर सुन ले | शनिवार स्पेशल SATURDAY BHAKTI

ब्रह्मा मुरारी त्रिपुरांतकारी * शुक्र: शनि राहु केतव: कुरुवन्तु सर्व मम सुप्रभातम।

Brahma Murari Tripurantakari * शुक्र: शनि राहु केतव: कुरुवन्तु सर्वे मम सुप्रभातम ।

मणिभद्र देव स्तुति + स्तोत्र + मंत्र गीत के साथ | धारेलु सहु काम | ॐ नमामि मणिभद्रं

Manibhadra Dev Stuti + Stotra + Mantra with Lyrics | धारेलु सहु काम | ॐ नमामि मणिभद्रं